मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग से बढ़ते रोजगार क़े अवसर

मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग से बढ़ते रोजगार क़े अवसर

                 

mobile phone manufacturing

   

 

 

कुछ एशियाई देशो की भारत में अपने देश की स्मार्ट फ़ोन निर्माता कंपनी इतने मोबाइल का निर्माण करके अपने देश में सेल नहीं करती जितना दूसरे देशो की मोबाइल फोन निर्माता कंपनी भारत में सेल करती है।
यह आष्चर्य की बात है की आईटी सेक्टर में भारत एक अग्रणी बना हुआ है। जबकि अभी तक मोबाइल फोन विनिर्माण में वह सफलता प्राप्त नहीं हुई है जैसा उसने IT और IT Services में प्राप्त की है। जैसा की हमने देखा है, के चीन मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग में सफलता प्राप्त कर रहा है।

अगर भारत स्मार्ट फोन विनिर्माण मे अधिक रूचि ले, तो इससे एक तो आयात मे कमी आएगी और दूसरा भारत का पैसा जो के बाहर जा रहा हैं, वो बचेगा और इस फील्ड मे बाहर की दूसरी कम्पनी भी इन्वेस्ट मे रूचि लेगी, जिससे की हमारे देश मे रोजगार भी पैदा होंगे।

अगर भारत स्मार्ट फोन विनिर्माण मे अधिक रूचि ले, तो इससे एक तो आयात मे कमी आएगी और दूसरा भारत का पैसा जो के बाहर जा रहा हैं, वो बचेगा और इस फील्ड मे बाहर की दूसरी कम्पनी भी इन्वेस्ट मे रूचि लेगी, जिससे की हमारे देश मे रोजगार भी पैदा होंगे।

जैसा की चीन मे एशिया की स्मार्ट फ़ोन ( हुआवेई, क्सिओमी, ओप्पो और वीवो ) की सेल्स मे 1० % की कमी देखने को मिली हैं। लेकिन भारत मे 3० % अधिक ग्रोथ हो रही हैं, जबकि ये अपने देश में नए-2 टेक्नोलॉजी दे रही हैं। लेकिन ये उत्पाद  उनके अपने देशो में में कम भारत मे अधिक पसंद हो रहे हैं, भारत का ग्राहक सस्ते आईफोन खरीद में अधिक रूचि रखता हैं।

लेकिन अब 2018-2019 में भारत में मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग में सफलता मिलनी प्रांरभ हुए है। अभी देखने को मिला है के दुनिया भर में मोबाइल फोन विनिर्माण उत्पादन का लगभग 11% भारत में होता है। मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग भारत में अब 2019 में रोजगार देने वाला सेक्टर बन रहा है। 

     “ग्लोबल ह्यूमन रिसोर्स फर्म” के अनुसार मोबाइल विनिर्माण उद्योग और इससे सम्बन्धित सर्विसेज से पिछले कुछ सालों में लगभग 4 मिलियन से भी ज्यादा रोजगार प्रत्यक्ष या अप्रत्क्ष रूप से प्राप्त हो रहे है। अभी हाल के सालों में भारत ने अमेरिका सहित कई देशों को मोबाइल फोन विनिर्माण और लदान में पछाड़ा भी है।

एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका की एप्पल ने भारत में आईफोन मैन्युफैक्चरिंग का फैसला जो किया है उससे भारत क़े ग्राहक को कम दामों पर आईफोन तो उपलब्ध होंगे ही, उसके साथ साथ सीमा शुल्क भी कम हो जाएगी और नए रोजगार भी पैदा हो सकेगे।