सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन से कैसे वेबसाइट को रैंक करे

search engine optimization
SEO

(How to rank a website with search engine optimization) 

 

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन से कैसे वेबसाइट को रैंक करे  

 

पिछले कुछ सालो मे इंटरनेट मे काफी बदलाव आ गया है, जैसा की एक तो इंटरनेट की स्पीड बहुत स्लो होती थी, और पहले मोस्टली ऑफलाइन होती थी, अब इंटरनेट स्पीड भी अधिक हैं। आज – कल सोशल मीडिया का भी काफी प्रयोग करने लगे हैं, कमर्शियल जॉब भी काफी ऑनलाइन ही होने लगा है।

गवर्नमेंट से लेकर कॉर्पोरेट कंपनी और छोटी कंपनी भी ऑनलाइन ही वर्क करती हैं। सेल -परचेस भी होउसेहोल्डर्स लोग ऑनलाइन ही करने लगे हैं। इसलिए जब वेबसाइट पर वेब ट्रैफिक अधिक होता हैं तो वेबसाइट की स्पीड स्लो हो जाती हैं।
अगर आप ब्लॉग्गिंग वेबसाइट और अपनी कंपनी के लिए कोई वेबसाइट क्रिएट कर रहे हैं। तो कस्टमर रीच बनाने के लिए वेबसाइट का सर्च इंजन पर रैंक होना भी महत्पूर्ण होता हैं। सर्च इंजन में रैंक रखने के लिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन अतिआवश्यक हैं।

search engine optimization header and bold tags

आप के हैडर में हैडिंग का बोल्ड और बिग साइज में होना अतिआवशयक है, इसके किये आप <Tags> का प्रयोग करते है। यह <tags> पेज पर विजिटर को तो परभावित करता है। <Tags> सर्च इंजन पर भी इम्प्रैशन डालता है।

यदि आप “how to earn money” के बारे में एक  ब्लॉग्गिंग पेज बना रहे है, और इसे गूगल पर या किसी दूसरे सर्च इंजन पर रैंक करना चहाते है, पेज के हैडर में <h1>how to earn money </h1> डालते है। हमेशा एक पेज में 3 और 4 से अधिक हेडिंग्स नहीं होने चाहिए और कम से कम एक पैराग्राफ होना आवशक है, और जो वर्ड इम्पोर्टेन्ट है। उनके लिए  इटैलिक, बोल्ड या <em> भी सर्च इंजन के लिए महत्वपूर्ण होता है।

header tags – <h1> to <h6>

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कीवर्ड का प्रयोग –

वेबसाइट पर पर्याप्त विसीटर्स प्राप्त करने के लिए हैडर <tag> ही काफी नहीं होते, इसके लिए हमे कीवर्ड्स का प्रयोग भी कर सकते है। पहले हम कीवर्ड सर्च करते है। फिर on page optimization करते समय आप तीन बातो का ध्यम रख सकते है।

  1.  आप अपने वेब ब्लॉग पर कम से कम 3 टाइम्स कीवर्ड का उपयोग कर सकते है, कीवर्ड्स न तो बहुत अधिक हो, और ना कम अन्यथा सर्च इंजन इसे सर्च नहीं कर पायेगा।

  1.        A. Keywords Density
           B. keywords variation 
           C. same keywords

 

3. Search Engine optimization internal linking structure-

 

वेबसाइट का सर्च इंजन पर परफॉर्म करने के लिए इंटरनल लिंक स्ट्रक्चर होना आवश्क है, इसको सही जानने के लिए आप इसे 3 पार्ट्स में डिवाइड कर सकते है।

  1. A. quantity of internal links –
  2. वेबसाइट का होम पेज पर सबसे अधिक लिंक होते है, क्योकि वेबसाइट के सभी पेज होम पेज से लिंक होते है, और यह सर्च इंजन पर अधिक परफॉर्म करता है।

  3. B. quality of internal links-

  4. क्वालिटी लिंक मीन्स जो वेबसाइट के पेज सर्च इंजन पर अधिक परफॉर्म करते है | कुछ लिंक ऐसे होते है, जो लेस्स परफॉर्म करते है लिंक कहते है तो वेबसाइट पर अच्छे लिंक की संख्या अधिक होनी चाहिए।
  5.  
  6. C. page depth Page

  7. पेज डेप्थ का मीनिंग वेबसाइट के मेन पेज से लिंक पेज से है। 
    आप को यह देख लेना अवयस्क है की आप की वेबसाइट के सभी पेज लिंक मेन पेज से लिंक है, या नहीं क्योकि जो पेज मैं से लिंक होते है। वह सर्च इंजन पर अधिक परफॉर्म और जो पेज लिंक्ड नहीं है वह लेस्स परफॉर्म करते है।
  8. 4.   Anchor Text-

    सर्च इंजन पर रैंक बढ़ाने के लिए दूसरी वेबसाइट से लिंक प्राप्त करना ही काफी नहीं है, बल्कि अगर स्पेशल कीवर्ड्स को टारगेट करके लिंक करते है, तो वह सर्च इंजन पर रैंक बढ़ाने में साहयक होता है।

 

 

One Comment

  1. Verna Bransfield 16/11/2019