मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग से बढ़ते रोजगार क़े अवसर

                 

mobile manufacturing

   

 

         कुछ एशियाई देशो की भारत में अपने देश की स्मार्ट फ़ोन निर्माता कंपनी इतने मोबाइल का निर्माण

करके अपने देश में सेल नहीं करती जितना दूसरे देशो की मोबाइल निर्माता कंपनी भारत में सेल करती है।

(company of smartphone makers producing more sales in India but in In own self countries

smartphone sales going less than Chinese smartphone in India.)

       यह आष्चर्य की बात है की आईटी सेक्टर में भारत एक अग्रणी बना हुआ है। जबकि अभी तक मोबाइल

 विनिर्माण में वह सफलता प्राप्त नहीं हुई है जैसा उसने IT और IT Services में प्राप्त की है।

      जैसा की हमने देखा है, के चीन मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग में सफलता प्राप्त कर रहा है।

अगर भारत स्मार्टफोन विनिर्माण मे अधिक रूचि ले, तो इससे एक तो आयात ( imports will be less)

मे कमी आएगी और दूसरा भारत का पैसा जो के बाहर जा रहा हैं, वो बचेगा और इस फील्ड

(in this field other multinational company also take interest to invest in India)

मे बाहर की दूसरी कम्पनी भी इन्वेस्ट मे रूचि लेगी , जिससे की हमारे देश मे रोजगार भी पैदा होंगे।

      ( Indigenous jobs would create in India) जैसा की चीन मे Asian smartphone makers company ( हुआवेई ,

क्सिओमी, ओप्पो और वीवो ) की sales मे १०% की कमी देखने को मिली हैं। लेकिन भारत मे ३०% अधिक ग्रोथ हो रही हैं ,

जबकि ये अपने देश में (Companies own self country) मे नए-२ technology दे रही हैं। (developing new technologies),

लेकिन ये उत्पाद  उनके अपने देशो में में कम भारत मे अधिक पसंद हो रहे हैं, भारत का ग्राहक सस्ते iPhone खरीद

(customer cheap iPhone purchase) में अधिक रूचि रखता हैं।

  लेकिन अब 2018-2019 में भारत में मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग में सफलता मिलनी प्रांरभ हुए है। अभी देखने

को मिला है के दुनिया भर में मोबाइल विनिर्माण उत्पादन(worldwide mobile manufacturing output)

का लगभग 11% भारत में होता है। मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग भारत में अब 2019 में रोजगार देने वाला सेक्टर

 बन रहा है। 

 

     “ग्लोबल ह्यूमन रिसोर्स फर्म(Global Human Resource firm)” के अनुसार मोबाइल विनिर्माण उद्योग

और इससे सम्बन्धित services से पिछले कुछ सालों में लगभग 4 million से भी ज्यादा रोजगार प्रत्यक्ष

या अप्रत्क्ष रूप से प्राप्त हो रहे है। अभी हाल के सालों में भारत ने अमेरिका सहित कई देशों को मोबाइल

विनिर्माण और लदान (manufacturing और shipment) में पछाड़ा भी है।

  एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका की  apple ने भारत में iPhone manufacturing

का फैसला जो किया है उससे भारत क़े ग्राहक (customer) को कम दामों पर iPhone तो उपलब्ध होंगे ही, उसके

साथ साथ सीमा शुल्क (custom duties) भी कम हो जाएगी और नए रोजगार भी पैदा हो सकेगे।