The Next Big Thing in how to Search Engine Optimization

SEO
SEO

  पिछले कुछ सालो मे( Internet ) मे काफी बदलाव आ गया है, जैसा की एकतो (Internet) की (speed)

बहुत slow होती थी, और पहले mostly offline होती थी, अब internet speed भी अधिक हैं। आज – कल

social media का भी काफी  use करने लगे हैं, commercial works भी काफी online ही होने लगा हैं,

government से लेकर corporate company और small company भी online ही works लिखे करती हैं।

sale-purchase भी householders लोग online ही करने लगे हैं। इसलिए जब websites पर web traffic

अधिक होता हैं तो website की speed slow हो जाती हैं।


    अगर आप blogging website और अपनी company के लिए कोई website create कर रहे हैं।

तो customer reach बनाने के लिए website का search engine पर rank होना भी महत्पूर्ण होता हैं। search

engine में rank रखने के लिए search engine optimization अतिआवश्यक हैं।

 

    1. search engine optimization header and bold tags

      आप के header में heading का bold और big size में होना अतिआवशयक है, इसके किये आप

      <Tags> का use करते है। यह <tags> page पर visitors को तो परभावित करता है <Tags>

      search engine पर भी impression डालता है।
    2. यदि आप “how to earn money” के बारे में एक  blogging page  बना रहे है, और इसे google पर 

      या किसी दूसरे search engine पर rank करना चहाते है, Page के Header में <h1>how to earn money

      </h1> डालते है। हमेशा एक page में 3 और 4 से अधिक headings नहीं होने चाहिए और कम से कम एक

      paragraph होना आवशक है, और जो word important है। उनके लिए  italic, bold or <em> भी search

      engine के लिए important होता है। header tags – <h1> to <h6>

  1.  3.  Search engine optimization keyword use- website पर पर्याप्त visitors प्राप्त करने के लिए 
  2. header <tag> ही काफी नहीं होते, इसके लिए हमे keywords का use भी कर सकते है। पहले हम
  3. Keyword search करते है। फिर on page optimization करते समय आप तीन बातो का ध्यम रख सकते है।

  1.        A. Keywords Density
           B. keywords variation 
           C. same keywords

 

  1.  आप अपने web blog पर कम से कम 3 times keyword का उपयोग कर सकते है , keywords न तो बहुत अधिक हो ,
  2. और ना कम अन्यथा search Engine इसे search नहीं कर पायेगा।
  1. 3. Search Engine optimization internal linking structure- website का search engine पर perform
  2. करने के लिए internal link structure होना आवश्क है, इसको सही जानने के लिए आप इसे ३ parts में divide
  3. कर सकते है।
  1. A.quantity of internal links –website का home page पर सबसे अधिक link होते है, क्योकि website
  2. के सभी page home page से link होते है और यह search engine पर अधिक perform करता है।
  3.  
  4. B. quality of internal links- quality link means जो website के page search engine पर अधिक
  5. perform करते है | कुछ लिंक ऐसे होते है, जो less perform करते है bed link कहते है तो website पैर number
  6. of good link अधिक होनी चाहिए।
  7. C. page depth Page depth का meaning website के main page से link page से है। 

  8. आप को यह देख लेना अवयस्क है की आप की website के सभी page link main page
  9. से link है या नहीं क्योकि जो page main से link होते है वह search engine पर अधिक perform
  10. और जो page linked नहीं है वह less perform करते है।
  11. 4.   Anchor Text- search engine पर rank बढ़ाने के लिए दूसरी websites से link प्राप्त करना ही काफी नहीं है, बल्कि अगर special keywords को target करके link करते है, तो वह search engine पर rank बढ़ाने में साहयक होता है।

 

  1. keywords and URL Alignment
  2. Researching competitors
  3. Page rank and Alexa rank
  4. Link building
  5. Directories
  6. Seo tools
  7. Popular Searches
  8. Rank Checker
  9. Google Analytics
  10. Google Webmaster Tools

ठीक होती है।…. More

One Comment

  1. Verna Bransfield 16/11/2019